क्रिप्टोकरेंसी का व्यापार कैसे होता है
कॉइन मार्केट कैप वेबसाइट के मुताबिक पूरी दुनिया में 11 हजार से ज्यादा क्रिप्टोकरेंसी का व्यापार सार्वजनिक रूप से एक्सचेंज यानी विनिमय संस्था के माध्यम से हो रहा है. वेबसाइट के मुताबिक वर्तमान में 1.5 ट्रिलियन डॉलर मूल्य की क्रिप्टोकरेंसी बाजार में चल रही है. सबसे ज्यादा एक्सचेंज के माध्यम से क्रिप्टोकरेंसी का लेन-देन हो रहा है. क्रिप्टोकरेंसी के ख़रीद-बिक्री के लिए भारत में इस समय 19 क्रिप्टो एक्सचेंज मार्केट हैं जिनमें वज़ीरएक्स का नाम पिछले दिनों सुर्ख़ियों में था.

क्या है इसका मूल्य?

Explained: क्रिप्टोकरेंसी क्या है? बिटकॉइन, इथर, डॉजीकॉइन के बारे में जानिए सब कुछ

By: एबीपी न्यूज बिटकॉइन इतना लोकप्रिय क्यों है? | Updated at : 30 Jul 2021 12:43 PM (IST)

इस साल दुनियाभर में क्रिप्टोकरेंसी की खूब चर्चा है. साल की शुरुआत में बिटकॉइन, डॉजीकॉइन जैसी डिजिटल करेंसियों ने जबर्दस्त उछाल लगाई लेकिन मई आते-आते यह एकदम धड़ाम हो गई. जितनी मुनाफा इसने बनाया था, सब खत्म हो गया. अब धीरे-धीरे इनमें फिर से तेजी आ रही है. इस तरह लोगों के मन में क्रिप्टोकरेंसी को लेकर जबर्दस्त जिज्ञासा है. आइए जानते हैं कि क्रिप्टोकरेंसी दरअसल में है क्या?

क्रिप्टोकरेंसी है क्या?
क्रिप्टोकरेंसी एक डिजिटल मुद्रा है जिसका मूल्य तो होता है लेकिन इसे न तो देखा जा सकता न छूआ जा सकता है. यह सिर्फ डिजिटल रूप में होता है जिससे ऑनलाइन ही लेन-देन किया जा सकता है. जिस तरह से देश की सरकारें निश्चित मूल्य के बदले मुद्रा या कागजी नोट या सिक्के जारी करती है, उस तरह की यह बिल्कुल भी मुद्रा नहीं है. डिजिटल मुद्रा इनक्रिप्टेड यानी कोडेड होती हैं इसलिए इन्हें क्रिप्टोकरेंसी भी कहते हैं. इसका लेन-देन खाता-बही द्वारा प्रबंधित होता है जो इसकी पारदर्शिता को सुनिश्चि करती है. यह सब इनक्रिप्टेड होती है. शुरुआत में इसके वैल्यू को लेकर काफी आशंकाएं थीं. एक समय ऐसा था जब 10 हजार बिटकॉइन से सिर्फ दो पिज्जे खरीदे जा सके थे. आज यह सबसे महंगा टोकन मनी है. कई कंपनियों ने भी क्रिप्टोकरेंसी को स्वीकार करने की घोषणा की है.

Cryptocurrency News: क्रिप्टोकरेंसी की कीमत में क्यों आ रही लगातार गिरावट, जानें क्या है इसका अमेरिका से कनेक्शन

क्रिप्टोकरेंसी

क्रिप्टोकरेंसी को लेकर दुनियाभर में रुझान बढ़ रहा है, भारत में भी क्रिप्टो के निवेशकों की संख्या में इजाफा देखा जा रहा है। हालांकि कोई नियामक न होने के चलते देश में खुलकर कारोबार अभी नहीं हो रहा है, लेकिन जो संकेत मिल रहे हैं उसके मुताबिक सरकार इसे रेगुलेट करने को लेकर नए साल की शुरुआत में निर्णय लिया जा सकता है। बहरहाल, इस बाजार में सबसे ज्यादा चर्चा होती है बड़े उतार-चढ़ाव की। पल में क्रिप्टो का दाम फर्श से अर्श पर पहुंच जाता है और एक झटके में जमीन पर भी आ जाता है। क्रिप्टोकरेंसी की कीमत में हालिया दिनों में लगातार गिरावट देखने को मिली है। इस गिरावट का बड़ा अमेरिकी कनेक्शन भी है।

विस्तार

क्रिप्टोकरेंसी को लेकर दुनियाभर में रुझान बढ़ रहा है, भारत में भी क्रिप्टो के निवेशकों की संख्या में इजाफा देखा जा रहा है। हालांकि कोई नियामक न होने के चलते देश में खुलकर कारोबार अभी नहीं हो रहा है, लेकिन जो संकेत मिल रहे हैं उसके मुताबिक सरकार इसे रेगुलेट करने को लेकर नए साल की शुरुआत में निर्णय लिया जा सकता है। बहरहाल, इस बाजार में सबसे ज्यादा चर्चा होती है बड़े उतार-चढ़ाव की। पल में क्रिप्टो का दाम फर्श से अर्श पर पहुंच जाता है और एक झटके में जमीन पर भी आ जाता है। क्रिप्टोकरेंसी की कीमत में हालिया दिनों में लगातार गिरावट देखने को मिली है। इस गिरावट का बड़ा अमेरिकी कनेक्शन भी है।

यूएस की नई टैक्स नीति का असर
एक रिपोर्ट के मुताबिक, क्रिप्टो विशेषज्ञों का कहना है कि क्रिप्टो बाजार में यह गिरावट अमेरिका में डिजिटल करेंसी को लेकर नई टैक्स नीति के कारण हुई है, जो 55,000 करोड़ डॉलर के इंफ्रास्ट्रक्चर बिल का हिस्सा है। इस कानून पर राष्ट्रपति जो बाइडेन ने हस्ताक्षर किए थे। रिपोर्ट में विशेषज्ञों के हवाले से कहा गया है कि हमने देखा है कि यूएस इंफ्रास्ट्रक्चर बिल पर हस्ताक्षर किए गए हैं, जिसकी वजह से उन ट्रेडर्स ने बिकवाली शुरू कर दी है, जो रेगुलेशन और टैक्सेशन को लेकर चिंतित हैं।

Bitcoin फिर 50000 डॉलर के पार, इस Cryptocurrency में 34 फीसदी का उछाल

Bitcoin में फिर तेजी का रुख (फाइल फोटो: Getty Images)

  • नई दिल्ली ,
  • 07 दिसंबर 2021,
  • (अपडेटेड 07 दिसंबर 2021, 1:24 PM IST)
  • क्रिप्टोकरेंसी में तेजी का रुख
  • बिटकॉइन में भी अच्छी तेजी

ज्यादातर क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) में मंगलवार को तेजी का रुख दिख रहा है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में सबसे लोकप्रिय बिटकॉइन (Bitcoin) आज 5 फीसदी से ज्यादा उछाल के साथ फिर 50 हजार डॉलर के पार हो गया है.

coinmarketcap.बिटकॉइन इतना लोकप्रिय क्यों है? com के मुताबिक इंटरनेशनल मार्केट में बिटकॉइन आज करीब 5.5 फीसदी की तेजी के साथ 51,182.71 डॉलर के आसपास पहुंच गया.

Cryptocurrency Price: बीते 5 दिन में Bitcoin 16% व Ethereum 24% से ज्यादा गिरी, Dogecoin हाई से 80% नीचे

 पिछले तीन महीने में बिटक्वाइन आधी हो चुकी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated : January 23, 2022, 08:55 IST

Cryptocurrency Price Today: पिछले कुछ महीने से बड़ी क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) की हालत खस्ता है. बीते साल नवंबर में शुरू हुआ बिटक्वाइन का डाउनट्रेंड अभी भी जारी है. दुनिया की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन (Bitcoin) पिछले तीन महीने में लगभग आधी हो चुकी है. आज रविवार को सुबह बिटक्वाइन की प्राइस 35,256 डॉलर के आस-पास चल रही है.

बीते पांच दिन में यह क्रिप्टो करेंसी 16 फीसदी से ज्यादा गिर चुकी है. पांच दिन पहले 42 हजार डॉलर से ऊपर चल रही बिटक्वाइन आज 35 हजार डॉलर के आस-पास ट्रेड कर रही है. यानी एक हफ्ते से कम समय में ही 7 हजार डॉलर से ज्यादा की गिरावट देखने को मिली है.

क्यों लोकप्रिय हैं बिटकॉइन्स?

बिटकॉइन्स मूल रूप से कंप्यूटर कोड की पंक्तियां हैं, जिन्हें हर बार एक मालिक से दूसरे तक भेजने के दौरान डिजिटल रूप से साइन किया जाता है। लेनदेन को गुमनाम रहकर किया जा सकता है, जिससे तकनीक के प्रति उत्साही लोगों के अलावा यह सट्टेबाजों और अपराधियों के बीच भी लोकप्रिय है।

क्या यह वाकई गुमनाम है?

क्या यह वाकई गुमनाम है?

हां, एक हद तक। बिटकॉइन्स से हुए लेनदेन और खातों का पता लगाया जा सकता है, लेकिन खाता मालिक के बारे में जानकारी नहीं निकाली जा सकती। हालांकि, बिटकॉइन को नियमित मुद्रा में कनवर्ट करते वक्त जांचकर्ता मालिकों को ट्रैक कर सकते हैं।

कौन कर रहा है बिटकॉइन का उपयोग ?

कौन कर रहा है बिटकॉइन का उपयोग ?

इस बारे में मीडिया कवरेज के बीच कुछ व्यवसायों ने बिटकॉइन से लेन-देन पर स्विच किया है। मसलन, overstock.com बिटकॉइन में भुगतान स्वीकार करता है। नकदी और कार्ड की तुलना में इसकी लोकप्रियता कम है क्योंकि कई व्यक्ति और व्यवसाय भुगतान के लिए बिटकॉइन स्वीकार नहीं करते।

कैसे आया बिटकॉइन?

कैसे आया बिटकॉइन?

बिटकॉइन को 2009 में अनाम व्यक्ति या समूह द्वारा सतोशी नाकामोतो नाम के तहत शुरू किया गया था। तब बिटकॉइन को उत्साही लोगों के एक छोटे से समूह द्वारा अपनाया गया था। बिटकॉइन इतना लोकप्रिय क्यों है? नाकामोतो ने जल्द ही इसे बंद कर दिया लेकिन उपयोगकर्ताओं का कहना है कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, मुद्रा अपने आंतरिक लॉजिक का पालन करती है।
पिछले साल ऑस्ट्रेलियाई उद्यमी ने आगे बढ़कर बिटकॉइन के संस्थापक होने का दावा किया था, लेकिन वह सबूत पेश नहीं कर सका।

क्या है आपकी राय?

रेटिंग: 4.72
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 113