क्रिप्टोकुरेंसी नामक एक प्रौद्योगिकी का उपयोग करके काम करता है जिसे ब्लॉकचैन कहा जाता है। ब्लॉकचैन एक विकेंद्रीकृत तकनीक है जो कई कंप्यूटरों में फैली हुई है जो लेनदेन का प्रबंधन और रिकॉर्ड करती है। इस तकनीक की अपील का हिस्सा इसकी सुरक्षा है।

क्रिप्टोकरेंसी क्या है और यह कैसे काम करती है

जहाँ पुराने समय में वस्तु के बदले (Cryptocurrency kya hai) वस्तु का आदान-प्रदान हुआ करता था तो वही एक समय के क्रिप्टोक्यूरेंसी कैसे काम करती है बाद यह सिक्को या सोने के रूप में होने (Cryptocurrency kya hoti hai) लगा। आधुनिक समय में इसकी जगह कागज पर छपे नोट व सिक्को ने ले ली लेकिन जब से इंटरनेट आया है तब से हर चीज़ में बदलाव देखने को मिल रहा हैं।

अब हम कैश की जगह ऑनलाइन लेनदेन को ज्यादा महत्ता देने लगे हैं जिसे डिजिटल करेंसी कहा जाता हैं। इसी में अब नाम जुड़ गया हैं क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency ke bare mein क्रिप्टोक्यूरेंसी कैसे काम करती है bataen) का जो कि बहुत तेजी से बढ़ रही हैं। आजकल क्रिप्टो करेंसी का बाजार बहुत बड़ा बाजार बन गया हैं जिसमे लोग निवेश भी करने लगे हैं। इसलिए आज हम आपके साथ क्रिप्टोकरेंसी के बारे में सबकुछ शेयर करेंगे।

क्रिप्टोकरेंसी क्या है (Cryptocurrency kya hai)

क्रिप्टोकरेंसी एक तरह की डिजिटल करेंसी ही होती हैं जिसे ना तो छुआ जा क्रिप्टोक्यूरेंसी कैसे काम करती है सकता हैं और ना ही कैश में रखा जा सकता हैं। जिस तरह हमारे पैसे क्रिप्टोक्यूरेंसी कैसे काम करती है बैंक में पड़े होते हैं या हमारी सैलरी बैंक अकाउंट में आती हैं और उसे हम छू नही सकते लेकिन उनसे ऑनलाइन चीज़े खरीद सकते हैं या बिल जमा करवा सकते हैं ठीक उसी तरह क्रिप्टोकरेंसी भी डिजिटल करेंसी ही होती हैं लेकिन यह अन्य डिजिटल करेंसी से अलग होती हैं।

इसका आपके बैंक खाते इत्यादि से कोई लेनादेना नही हैं। उदाहरण के तौर पर जिस तरह आपका पेटीएम, अमेज़न इत्यादि के वॉलेट होते हैं और उन पर आपका बैंक से इतर अलग पैसा होता हैं ठीक उसी तरह क्रिप्टोकरेंसी भी अलग होती हैं। इसे विस्तार से आगे समझिए।

क्रिप्टोकरेंसी का मतलब (Cryptocurrency meaning in Hindi)

यह दो शब्दों के मेल से बना हैं, एक तो क्रिप्टो व दूसरा करेंसी। इसमें क्रिप्टो शब्द लैटिन भाषा से लिया गया हैं जिसका अर्थ होता हैं छुपा हुआ क्रिप्टोक्यूरेंसी कैसे काम करती है या गुप्त और करेंसी का अर्थ हुआ धन। अर्थात जो धन गुप्त हो या दूसरों से छुपा हुआ हो उसे क्रिप्टो करेंसी कहा जाएगा।

यह धन सार्वजनिक नही होता हैं और ना ही हम इसे कैश के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं। इस कारण इसे क्रिप्टो करेंसी नाम दिया गया हैं जिसका अर्थ हुआ दूसरों की नज़र से छुपाया गया धन या गुप्त धन।

क्रिप्टो करेंसी अलग कैसे है (Cryptocurrency kaise banti hai)

दरअसल विश्व के हर देश की अपनी मुद्रा होती हैं जिसे वहां की सरकार के द्वारा मान्यता प्राप्त होती हैं। इस मुद्रा का कुछ मूल्य होता हैं जिससे हम वस्तुएं खरीद सकते क्रिप्टोक्यूरेंसी कैसे काम करती है हैं या कोई सेवा ले सकते हैं। जिस प्रकार भारत की मुद्रा रूपया हैं तो अमेरिका की डॉलर और रूस की रूबल इत्यादि। इन सभी मुद्राओं का हर देशों की अर्थव्यवस्था के अनुसार कुछ मूल्य होता हैं जैसे कि आप 100 रुपए में फल, सब्जी इत्यादि खरीदते हैं इत्यादि।

ठीक उसी प्रकार क्रिप्टो करेंसी होती हैं लेकिन यह किसी देश की ना होकर पूरे विश्व की होती हैं। एक तरह से इस पर किसी एक देश का एकाधिकार नही होता है और ना ही यह किसी सरकार के द्वारा रेगुलेट की जाती हैं। कहने का तात्पर्य यह हुआ कि क्रिप्टो करेंसी का मूल्य जो भारत में हैं वही रूस में होगा।

Explainer : डिजिटल रुपी क्‍या है और यह कैसे काम करती है, किप्‍टोकरेंसी से कितना अलग है भारत का डिजिटल रुपया

आरबीआई ने डिजिटल रुपये के ट्रायल के लिए 9 बैंकों को दिया नया प्लेटफॉर्म.

आरबीआई ने डिजिटल रुपये के ट्रायल के लिए 9 बैंकों को दिया नया प्लेटफॉर्म.

Digital Rupee-सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) या डिजिटल रुपी (Digital Rupee) केंद्रीय बैंक द्वारा जारी एक वैध मुद्रा . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : November 01, 2022, 18:48 IST
वित्‍त मंत्री ने अपने बजट भाषण में डिजिटल रुपी लाने की घोषणा की थी.
होलसेल सेगमेंट के लिए रुपी पायलट प्रोजेक्ट लॉन्‍च कर दिया गया है.
डिजिटल रुपी को बैंक मनी और कैश में आसानी से बदला भी जा सकेगा.

नई दिल्‍ली. भारत का पहला सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) या डिजिटल रुपी (Digital Rupee) पायलट प्रोजेक्ट आज यानि मंगलवार, 1 नवंबर से शुरू हो गया है.भारतीय रिजर्व बैंक ने (RBI) मंगलवार को होलसेल सेगमेंट को ध्यान में रखते हुए डिजिटल रुपी का पायलट प्रोजेक्‍ट लॉन्च किया है. आरबीआई की रिटेल सेगमेंट के लिए डिजिटल रुपी क्रिप्टोक्यूरेंसी कैसे काम करती है का पहला पायलट प्रोजेक्‍ट चुनिंदा जगहों में एक महीने के भीतर लॉन्च करने की योजना है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने फरवरी में अपने बजट भाषण में डिजिटल करेंसी लाने की घोषणा की थी.

Step 2. Choose the platform

Choose whether you want to use the MetaTrader 4 or MetaTrader 5 platform to trade. MetaTrader 4 is the long-established and arguably the best standard for pure Forex trading, while MetaTrader 5 allows you to better set up your trading preferences. Research both and see which suits you best.

Step 3. Make your first deposit

Once your email and identity are verified, you can add funds to your trading account. Don’t forget that adding funds allows you to get a 50% deposit bonus and maximise your potential profit.

Step 4. Download the crypto trading system

Download the appropriate desktop or mobile MetaTrader app, and sign in with your trading account number, which you have received after the account registration in steps 1 and 2.

In order to start trading cryptocurrencies within the MetaTrader systems, you need to add them क्रिप्टोक्यूरेंसी कैसे काम करती है into the asset list:

Desktop: right-click on Market Watch and select Show All

Mobile: press +, क्रिप्टोक्यूरेंसी कैसे काम करती है select Crypto, and then choose the currencies you want to trade.

कुल कितनी क्रिप्टो करेंसी है (How much Cryptocurrency is the total till now)

शायद अब तक सभी ने बिटकॉइन के बारे में सुना होगा। यह मुख्यधारा में जाने वाला पहला क्रिप्टोकुरेन्सी था, लेकिन अन्य लोकप्रियता में बढ़ रहे हैं। क्रिप्टोकुरेन्सी के 2,000 से अधिक विभिन्न प्रकार हैं, और हर दिन अधिक विकसित होते हैं।

क्रिप्टोकरेंसी को कई कारणों से आलोचना का सामना करना पड़ता है, जिसमें अवैध गतिविधियों के लिए उनका उपयोग, विनिमय दर में अस्थिरता, और उल्लंघन की कमजोरियां शामिल हैं। हालाँकि, उनकी सुवाह्यता, विभाज्यता, मुद्रास्फीति प्रतिरोध और पारदर्शिता (portability, divisibility, іnflаtіоn resistance, and trаnѕраrеnсу) के लिए भी उनकी प्रशंसा की गई है।

क्रिप्टोक्यूरेंसी खनन (Cryptocurrency Mining)

आपके दिमाग में यह सवाल आ सकता है कि सभी क्रिप्टोकुरेंसी लेनदेन को क्रिप्टोक्यूरेंसी कैसे काम करती है कौन सत्यापित (Verify) करता है।
कई निजी कंपनियां हैं जो इन लेनदेन को सत्यापित करने के लिए बड़े सुपर कंप्यूटर का उपयोग कर रही हैं।

और सब कुछ स्वचालित किया जा रहा है। और इसे क्रिप्टोक्यूरेंसी माइनिंग कहा जाता है
विशेष रूप से चीन में, क्रिप्टोक्यूरेंसी खनन कुछ हजार बीघा के आसपास हो रहा है।

इसके बजाय, वे एक कमीशन के रूप में क्रिप्टोक्यूरेंसी से सिक्के का एक हिस्सा प्राप्त करते हैं।
इस प्रकार के खनन कार्य करने वालों (Bitcoin Mining) को Bitcoin माइनर (Bitcoin Miner) कहा जाता है।

क्रिप्टोक्यूरेंसी माइनिंग से कंपनियां लाखों कमा रही हैं।

SUPER-COMPUTER

बिटकॉइन माइनिंग कैसे शुरू करें (How to Start Bitcoin Mining)

अगर आप क्रिप्टोक्यूरेंसी माइनिंग शुरू करना चाहते हैं, तो आपको कम से कम तीन लाख रुपये का निवेश करना होगा।

आपको एक सुपर कंप्यूटर लाने की जरूरत है जहां 24 घंटे बिजली की आवश्यकता होती है। आप जितना अधिक खनन करेंगे, आपको उतनी ही अधिक आय हो सकती है।

हालाँकि, क्रिप्टोकरेंसी से पैसे कमाने के कई तरीके हैं। बिटकॉइन माइनिंग उनमें से एक है। लेकिन यह बहुत महंगा और समय लेने वाला है।

दूसरी प्रक्रिया:-

दूसरा तरीका ट्रेडिंग है। क्रिप्टोक्यूरेंसी ट्रेडिंग। भारत में क्रिप्टो करेंसी का तेजी से विस्तार हो रहा है।

भारतीय शेयर बाजार व्यापार के साथ-साथ क्रिप्टोकुरेंसी व्यापार बढ़ रहा है। क्रिप्टोकुरेंसी में 200 से अधिक Coin हैं।
और सबसे बड़ा और पहला सिक्का बिटकॉइन है।

क्रिप्टो क्रिप्टोक्यूरेंसी कैसे काम करती है ट्रेडिंग कैसे शुरू करें (How to Start Crypto Trading)

उदाहरण के लिए, शेयर बाजार में काम करने के लिए एक डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट की आवश्यकता होती है।
इसी तरह, क्रिप्टोक्यूरेंसी में काम करने के लिए कुछ निश्चित प्लेटफॉर्म हैं।
आप उन प्लेटफार्मों पर पंजीकरण कर सकते हैं।

पूरी तरह से मुक्त।

जैसे Binance, Wizrix

यहां क्लिक करें और Binance पर खाता खोलें

यहां क्लिक करें और Wizrix पर खाता खोलें

यह कैसे करना है, हम अगले लेख में चर्चा करेंगे। आप चाहें तो क्रिप्टोकरेंसी में काम कर सकते हैं।

अंतिम शब्द

मुझे उम्मीद है कि आपको मेरा लेख “क्रिप्टोक्यूरेंसी क्या है – (Cryptocurrency Meaning In Hindi) | Cryptocurrency कैसे काम करती है?” पसंद आया होगा। आपका ज्ञान बहुत बढ़ गया है। अगर मैंने इस लेख में कोई गलती की है या यदि आपके कोई प्रश्न हैं, तो बेझिझक कमेंट बॉक्स में कमेंट करें और मैं आपके प्रश्न का उत्तर जल्द से जल्द देने का प्रयास करूंगा।

अगर आपको स्टॉक मार्केट के बारे में ज्यादा अनुभव नहीं है। और अगर आप स्टॉक मार्केट की कार्यप्रणाली सीखना चाहते हैं। तब आप हमारे –शेयर मार्केट टेक्निकल कोर्स में दाखिला ले सकते हैं।

आप सिर्फ 799/- रुपये में स्टॉक मार्केट के सभी क्रिप्टोक्यूरेंसी कैसे काम करती है कामकाज सीख सकते हैं और आप शेयर मार्केट से हर महीने अच्छा पैसा कमा सकते हैं।

रेटिंग: 4.77
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 756