शेयर बाजार में शुगर का बूम, 20% तक बढे शेयर के दाम, जानें क्या रही वजह

Kavita Singh Rathore

राज एक्सप्रेस। शेयर बाजार में आए दिन उतार-चढ़ाव देखने को मिलता है। कभी कंपनियों को मुनाफा होता है तो कभी घाटा। कभी-कभी किसी विशेष कारण के चलते भी कंपनियों के शेयर घटते बढ़ते हैं, लेकिन आज जो खबर सामने आई है, वह शुगर (चीनी) की कीमतों या एक साल में शेयर बाजार में भारी उतार कहें चीनी निर्माता कंपनियों के शेयर में उतार-चढ़ाव को लेकर है।

शुगर कंपनियों के शेयर में दर्ज हुई बढ़त :

दरअसल, आज यानी मंगलवार को स्टॉक मार्केट में शुगर की कंपनियों के शेयर 20% तक बढ़ गए थे। बताया जा रहा है कि, इन कीमतों के बढ़ने के पीछे एक बड़ी खबर का असर देखने को मिला है। इस खबर के तहत, शुगर के आउटपुट में 7% की गिरावट देखने को मिली है। एक खास बात यह भी है कि मौजूदा समय में गन्ने की पैदावार कम हुई है जिसके चलते भी शेयर मार्केट में उतार-चढ़ाव देखने को मिला है। वहीं, इस तरह की खबरें आने के बाद यह भी कहा जा रहा है कि अब चीनी के एक्सपोर्ट में भी गिरावट देखने को मिल सकती है।क्यों

गन्ने की उपज में एक साल में शेयर बाजार में भारी उतार गिरावट :

खबर तो यह भी है कि, 1 अक्टूबर को शुरू हुए शुगर मार्केटिंग ईयर में भारत की शुगर कंपनियों के शेयर में 7% की गिरावट देखी गई है। इस मामले में सामने आई रिपोर्ट की मानें तो, चीनी उत्पादन में गिरावट दर्ज होने की संभावना देश के सबसे बड़े चीनी उत्पादक राज्य महाराष्ट्र में कम गन्ने की उपज के चलते जताई जा रही है। महाराष्ट्र में इस साल किसानों को उपज में औसतन 15% और कुछ क्षेत्रों में 35% तक की गिरावट देखने को मिली है। यहां, बहुत ज्यादा गर्मी और इस साल हुई भारी बारिश के कारण गन्ने की फसल बड़ी मात्र में खराब हो गई थी। जानकारों का कहना है कि, 'देश में गन्ने के उत्पादन में तेज गिरावट से देश के चीनी निर्यात पर असर पड़ेगा और चीनी की वैश्विक कीमतों में तेजी आएगी। बता दें कि भारत चीनी का दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा निर्यातक है।'

इन कंपनियों के शेयर में दर्ज हुई बढ़त :

खबर तो यह भी सामने आई है कि, उत्पादन में गिरावट की स्थिति में, सरकार 27.5 मिलियन टन की घरेलू मांग को पूरा करने के लिए और देश में चीनी की पर्याप्त आपूर्ति बनाए रखने के लिए एक्सपोर्ट में कमी करने को लेकर योजना बना रही है। इस खबर के सामने आने के बाद आज कई शुगर कंपनियों में के शेयरों में बढ़त दर्ज हुई है। जिन कंपनियों में बढ़त दर्ज हुई है, उनमें Ponni Sugars, Avadh Sugar, Simbhaoli Sugars, Shree Renuka Sugars और Balrampur Chini Mills के नाम शामिल हैं। इन कंपनियों में इंट्राडे में 1-12% तक की बढ़त दर्ज हुई है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Penny share Raj Rayon turns Rs 1 lakh into Rs 37 lakh: पेनी शेयर ने साल भर में 1 लाख रुपए को 37 लाख बनाया

20 पैसे के इस शेयर का कमाल, एक साल में 1 लाख रुपये को बना दिया 37 लाख और 3 साल में 22 करोड़

  • Date : 11/08/2022
  • Read: 3 mins Rating : -->

इस पेनी शेयर ने केवल एक साल में निवेशकों के 1 लाख रुपए को बढ़ाकर 37 लाख और तीन साल में 2.2 करोड़ रुपए कर दिया।

Raj Rayon Penny Share

Penny stock Raj Rayon share price: साधारण तौर पर यह माना जाता है कि पेनी स्टॉक में निवेश करना बहुत ही जोखिम का काम है क्योंकि इन शेयरों की कीमत में अचानक भारी उतार–चढ़ाव होता है। इन शेयरों की कीमत बहुत कम होने के कारण इन्हें पेनी शेयर कहा जाता है। ये मल्टीबैगर पेनी शेयर कभी एक झटके में मालामाल कर देते हैं तो कभी निवेशक की लुटिया भी डुबो देते हैं।

ऐसे ही पेनी शेयरों में शामिल, राज रेयॉन इंडस्ट्रीज के शेयर ने एक साल में शेयर बाजार में भारी उतार बीते तीन सालों में अपने निवेशकों की किस्मत बदल दी है और उन्हें करोड़पति बना दिया है। तीन साल में इस शेयर की कीमत में 22100 प्रतिशत वृद्धि हुई है। यानी यह शेयर एक साल में एक लाख रुपए को करीब 22 करोड़ से अधिक बना चुका है। पिछले साल इस शेयर की कीमत 20 पैसे प्रति शेयर तक पहुँच गई थी। पर इस शेयर में अब ऐसी तेजी आई है जिसने जानकारों को भी हैरान कर दिया है।

8 अगस्त को राज रेयॉन के शेयर 3600 प्रतिशत का मुनाफा देकर नेशनल स्टॉक एक्स्चेंज में 11.10 रुपए की कीमत पर बंद हुए थे। एक साल पहले इस शेयर की कीमत मात्र 30 पैसे रह गई थी। अगर किसी निवेशक ने एक साल पहले 30 पैसे के इस शेयर में 1 लाख रुपए डाले होंगे, तो आज उसे उस एक लाख के 37 लाख रुपए मिल सकते हैं। इसके अलावा अगर बीते तीन सालों की बात की जाए तो राज रेयॉन के शेयरों ने इस बीच अपने निवेशकों को करोड़पति बना दिया है। तीन सालों में इसकी कीमत में 22100 प्रतिशत बढ़त आई है। जिसका मतलब हुआ कि इन तीन सालों में इस शेयर पर लगाया हुआ एक लाख रुपया आज लगभग 2.2 करोड़ से अधिक हो गया है। इसके साथ ही पिछले तीन महीने में इस शेयर ने 128.87 प्रतिशत का मुनाफा दिया है।

पेनी स्टॉक खरीदते समय सावधानी बरतें

निवेश सलाहकार पेनी स्टॉक्स में निवेश करने वालों को सावधान करते हुए सलाह देते हैं कि कोई भी शेयर खरीदने से पहले कंपनी के बारे में अच्छे से पता लगाएं। पेनी शेयर जारी करने वाली छोटी कंपनियों के बारे में बहुत कम जानकारी मिल पाती है। किसी भी कंपनी के विकास, उत्पाद, प्रदर्शन और पृष्ठभूमि की ठीक से जांच करने के बाद ही उसके शेयर खरीदना चाहिए। शेयर बाजार में पैसे लगाने से पहले किसी जानकार की राय लेना बहुत ज़रूरी है। और हाँ एक ही बार में या एक ही कंपनी के शेयरों मे बहुत अधिक पैसे न लगाएं। खासकर पेनी शेयरों पर उतने ही पैसे लगाए, जिनके डूबने पर आपको संभलने में परेशानी न हो। साथ ही इन शेयरों पर लंबे समय के लिए निवेश न करें। अच्छा मुनाफा मिलते ही इनको बेच दें।

​Raj Rayon शेयर ने 1 साल मे इतिहास रच दिया​​​

Penny stock Raj Rayon share price: साधारण तौर पर एक साल में शेयर बाजार में भारी उतार यह माना जाता है कि पेनी स्टॉक में निवेश करना बहुत ही जोखिम का काम है क्योंकि इन शेयरों की कीमत में अचानक भारी उतार–चढ़ाव होता है। इन शेयरों की कीमत बहुत कम होने के कारण इन्हें पेनी शेयर कहा जाता है। ये मल्टीबैगर पेनी शेयर कभी एक झटके में मालामाल कर देते हैं तो कभी निवेशक की लुटिया भी डुबो देते हैं।

ऐसे ही पेनी शेयरों में शामिल, राज रेयॉन इंडस्ट्रीज के शेयर ने बीते तीन सालों में अपने निवेशकों की किस्मत बदल दी है और उन्हें करोड़पति बना दिया है। तीन साल में इस एक साल में शेयर बाजार में भारी उतार शेयर की कीमत में 22100 प्रतिशत वृद्धि हुई है। यानी यह शेयर एक साल में एक लाख रुपए को करीब 22 करोड़ से अधिक बना चुका है। पिछले साल इस शेयर की कीमत 20 पैसे प्रति शेयर तक पहुँच गई थी। पर इस शेयर में अब ऐसी तेजी आई है जिसने जानकारों को भी हैरान कर दिया है।

8 अगस्त को राज रेयॉन के शेयर 3600 प्रतिशत का मुनाफा देकर नेशनल स्टॉक एक्स्चेंज में 11.10 रुपए की कीमत पर बंद हुए थे। एक साल पहले इस शेयर की कीमत मात्र 30 पैसे रह गई थी। अगर किसी निवेशक ने एक साल पहले 30 पैसे के इस शेयर में 1 लाख रुपए डाले होंगे, तो आज उसे उस एक लाख के 37 लाख रुपए मिल सकते हैं। इसके अलावा अगर बीते तीन सालों की बात की जाए तो राज रेयॉन के शेयरों ने इस बीच अपने निवेशकों को करोड़पति बना दिया है। तीन सालों में इसकी कीमत में 22100 प्रतिशत बढ़त आई है। जिसका मतलब हुआ कि इन तीन सालों में इस शेयर पर लगाया हुआ एक लाख रुपया आज लगभग 2.2 करोड़ से अधिक हो गया है। इसके साथ ही पिछले तीन महीने में इस शेयर ने 128.87 प्रतिशत का मुनाफा दिया है।

पेनी स्टॉक खरीदते समय सावधानी बरतें

निवेश सलाहकार पेनी स्टॉक्स में निवेश करने वालों को सावधान करते हुए सलाह देते हैं कि कोई भी शेयर खरीदने से पहले कंपनी के बारे में अच्छे से पता लगाएं। पेनी शेयर जारी करने वाली छोटी कंपनियों के बारे में बहुत कम जानकारी मिल पाती है। किसी भी कंपनी के विकास, उत्पाद, प्रदर्शन और पृष्ठभूमि की ठीक से जांच करने के बाद ही उसके शेयर खरीदना चाहिए। शेयर बाजार में पैसे लगाने से पहले किसी जानकार की राय लेना बहुत ज़रूरी है। और हाँ एक ही बार में या एक ही कंपनी के शेयरों मे बहुत अधिक पैसे न लगाएं। खासकर पेनी शेयरों पर उतने ही पैसे लगाए, जिनके डूबने पर आपको संभलने में परेशानी न हो। साथ ही इन शेयरों पर लंबे समय के लिए निवेश न करें। अच्छा मुनाफा मिलते ही इनको बेच दें।

भारी-उतार चढ़ाव के बाद बंद हुआ शेयर बाजार, सेंसेक्स में 198 अंक की बढ़त

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। बिजली, दूरसंचार और फार्मा कंपनियों के शेयरों में लाभ से मंगलवार को सेंसेक्स एक दिन पहले की भारी गिरावट से उबर गया और 198 अंक की बढ़त के साथ बंद हुआ। शुरुआती कारोबार में बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स करीब 700 अंक टूट गया था। लेकिन बाद में इसने अपने नुकसान की भरपाई की और अंत में यह 198.44 अंक या 0.34 प्रतिशत की बढ़त के साथ 58,664.33 अंक पर बंद हुआ। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 86.80 अंक या 0.50 प्रतिशत के लाभ से 17,503.35 अंक पर पहुंच गया।

सेंसेक्स की कंपनियों में पावरग्रिड का शेयर करीब चार प्रतिशत चढ़ गया। एनटीपीसी, टाटा स्टील, भारती एयरटेल, सन फार्मा और बजाज फिनसर्व के शेयर भी लाभ में रहे। दूसरी ओर इंडसइंड बैंक, एशियन पेंट्स, इन्फोसिस, बजाज ऑटो और मारुति के शेयर 2.59 प्रतिशत तक टूट गए।

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ''धातु, सरकारी बैंक और फार्मा कंपनियों के शेयरों की अगुवाई में घरेलू शेयर बाजार गिरावट से उबर गए। मिडकैप और स्मॉलकैप का प्रदर्शन मुख्य सूचकांकों से बेहतर रहा।''

उन्होंने कहा कि जेरोम पावेल को फिर से फेडरल रिजर्व का चेयरमैन नामित किया गया है। इसके बावजूद कल कारोबार के अंतिम घंटे में अमेरिकी बाजारों में बिकवाली का सिलसिला चला। अन्य एशियाई बाजारों में हांगकांग का हैंगसेंग और दक्षिण कोरिया का कॉस्पी नुकसान में रहे। वहीं चीन के शंघाई कम्पोजिट और जापान के निक्की में लाभ रहा।

बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 1,170.12 अंक यानी 1.96 प्रतिशत के नुकसान के साथ 58,465.89 अंक पर आ गया था। सेंसेक्स में लगातार चौथे कारोबारी सत्र में गिरावट आई। यह दो माह में सेंसेक्स का सबसे निचला बंद स्तर था। 12 अप्रैल के बाद यह एक दिन में सेंसेक्स की सबसे बड़ी गिरावट है। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 348.25 अंक यानी 1.96 प्रतिशत टूटकर 17,416.55 अंक पर बंद हुआ।

बजाज फाइनेंस, बजाज फिनसर्व, रिलायंस इंडस्ट्रीज, एनटीपीसी, टाइटन और एसबीआई के शेयर 5.74 प्रतिशत तक टूट गए थे। रिलायंस इंडस्ट्रीज एक साल में शेयर बाजार में भारी उतार ने सऊदी अरामको के साथ 15 अरब डॉलर में अपने तेल रिफाइनरी और पेट्रोरसायन कारोबार में 20 प्रतिशत हिस्सेदारी का प्रस्तावित सौदा रोक दिया है। इन खबरों के बाद रिलायंस के शेयरों में 4 प्रतिशत की भारी गिरावट दर्ज हुई।

दूसरी ओर भारती एयरटेल, एशियन पेंट्स और पावरग्रिड के शेयर लाभ में रहे थे। बीएसई में पेटीएम की मूल कंपनी वन97 कम्युनिकेशंस का शेयर 13 प्रतिशत के नुकसान से 1,360.30 रुपये पर आ गया। LKP सिक्योरिटीज के शोध प्रमुख एस रंगनाथन ने कहा कि बीते सप्ताहांत कई घटनाक्रमों के बाद आज अंतत: बाजार में मंदड़िया रुख कायम हो गया था। धातु को छोड़कर अन्य सभी खंडों के सूचकांक नीचे आए। उन्होंने कहा कि कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा से सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों के शेयर प्रभावित हुए थे।

Business News Today April 19 Highlights: व्यापार से जुड़ी दिन की बड़ी और जरूरी खबरें पढ़ें

Business News Today April 19 Highlights: व्यापार से जुड़ी दिन की बड़ी और जरूरी खबरें पढ़ें

यह Jagran.com का व्यापार से जुड़ा लाइव ब्लॉग है। यहां आपको व्यापार क्षेत्र से जुड़े तमाम अपडेट मिलेंगे। हमारी कोशिश रहेगी कि आपको सबसे पहले जानकारी दी जाए। इसीलिए, हमारे साथ जुड़े रहें और हमेशा खबरों से अपडेट रहें।

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। शेयर बाजार में कई दिनों से लगातार उतार-चढ़ाव जारी है। यूक्रेन में स्थिति के और तनावपूर्ण होने के साथ ही उसका असर दुनिया भर के व्यापार पर दिखने लगा है। सोमवार को चार दिनों के बाद खुले भारतीय शेयर बाजार में बड़ी गिरावट देखी गई। अब सप्ताह के दूसरे कारोबारी दिन यानी आज भी शेयर बाजार अस्थिर बना रहा। ऐसे में व्यापार क्षेत्र की हर लेटेस्ट जानकारी (Business News Today April 19) आपको यहां मिलेगी। यह Jagran.com का व्यापार से जुड़ा लाइव ब्लॉग है। यहां आपको व्यापार क्षेत्र से जुड़े तमाम अपडेट मिलेंगे।

05:44 PM, 19 Apr 2022

सीमेंट-स्‍टील की ऊंची कीमतों से डरे डेवलपर

बिल्डिंग मैटेरियल की ऊंची कीमतें बिल्‍डरों को डरा रही हैं। करीब 40 फीसद रीयल एस्‍टेट डेवलपर्स का मानना है कि अगर सरकार ने कोई उपाय नहीं किया तो उनके लिए प्रोजेक्‍ट पूरा करना मुश्किल हो जाएगा। बता दें कि स्‍टील और सीमेंट की कीमतें बीते दिनों में काफी उछली हैं।

05:24 PM, 19 Apr 2022

ACC Ltd का शुद्ध लाभ घटा

सीमेंट निर्माता एसीसी लिमिटेड का मार्च, 2022 को समाप्त पहली तिमाही में समेकित शुद्ध लाभ 29.5 प्रतिशत की गिरावट के साथ 396.33 करोड़ रुपये रहा है।

04:41 PM, 19 Apr 2022

रुपया फिर गिरा

मंगलवार को डॉलर के मुकाबले रुपया 22 पैसे गिरकर 76.51 (अनंतिम) पर बंद हुआ।

04:23 PM, 19 Apr 2022

Flipkart ने ANS कॉमर्स का किया अधिग्रहण

Flipkart ने मंगलवार को ANS कॉमर्स का अधिग्रहण करने का ऐलान किया है। कंपनी ने यह डील तेजी से बढ़ रहे डिजिटल रिटेल मार्केट को बूस्‍ट करने के उद्देश्‍य से की है। ANS कॉमर्स ब्रांड को ऑनलाइन बिक्री में मदद करती है।

03:47 PM, 19 Apr 2022

कोयले की सप्‍लाई बढ़ाई

Coal India ने मंगलवार को कहा कि उसने पहली छमाही में कोयला आधारित बिजली उत्पादन संयंत्रों को आपूर्ति में 14.2 प्रतिशत की बढ़ोतरी की है।

03:46 PM, 19 Apr 2022

शेयर बाजार भारी गिरावट के साथ बंद

दिनभर जारी रहे उतार-चढ़ाव के बाद शेयर बाजार भारी गिरावट के साथ बंद हुआ। सेंसेक्स 703.59 अंक या 1.23% की गिरावट के साथ 56,463.15 अंक पर जबकि निफ्टी 215.00 अंक या 1.25% की गिरावट के साथ 16,958.65 अंक एक साल में शेयर बाजार में भारी उतार पर बंद हुआ।

03:34 PM, 19 Apr 2022

तेल कंपनियों को हो सकता है नुकसान

फिच रेटिंग ने कहा है कि पेट्रोल और डीजल की कीमतें न बढ़ाने के कारण सरकारी तेल कंपनियों-IOC, BPCL एक साल में शेयर बाजार में भारी उतार और HPCL को जनवरी-मार्च 2022 तिमाही में राजस्‍व में नुकसान हो सकता है।

03:12 PM, 19 Apr 2022

केंद्र सरकार ने हेल्थकेयर वर्कर्स की इंश्योरेंस स्कीम को 180 दिनों के लिए बढ़ाया

कोरोना से लड़ने वाले स्वास्थ्य कर्मियों के लिए केंद्र सरकार की बीमा योजना को 180 दिनों की अवधि के लिए बढ़ा दिया गया है। आदेश में कहा गया, "प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज (PMGKP): कोरोना से लड़ने वाले हेल्थकेयर वर्कर्स के लिए बीमा योजना को 19 अप्रैल, 2022 से और 180 दिनों की अवधि के लिए बढ़ा दिया गया है।"

03:02 PM, 19 Apr 2022

शेयर बाजार

सेंसेक्स (56,894.37 अंक)
गिरावट- 272.37 अंक या 0.48%

निफ्टी (17,088.30 अंक)
गिरावट- 85.35 अंक 0.5%

02:41 PM, 19 Apr 2022

सेंसेक्स के टॉप-5 शेयर

RELIANCE (2666.00, +4.79 %)
BAJFINANCE (7407.60, +2.06 %)
ICICIBANK (773.15, +1.90 %)
SBIN (518.95, +1.87 %)
AXISBANK (812.95, +1.73 %)

02:32 PM, 19 Apr 2022

Twitter को खरीद लिया तो बोर्ड सदस्‍यों की सैलरी होगी जीरो

Twitter को खरीदने की अपनी मुहिम के बीच Tesla के सीईओ एलन मस्क ने नया बयान जारी किया है। Musk ने कहा कि अगर 43 अरब डॉलर में Twitter का अधिग्रहण सफल रहता है तो उसके बोर्ड के सदस्यों की सैलरी जीरो कर दी जाएगी। Musk ने Tweet में कहा कि अगर मैं Twitter को खरीदने में सफल रहा तो बोर्ड के सदस्‍यों की सैलेरी जीरो हो जाएगी। ऐसा करने से हर साल 30 करोड़ डॉलर की सालाना बचत होगी।

01:34 PM, 19 Apr 2022

शेयर बाजार

सेंसेक्स (57,342.92 अंक)
बढ़त- 176.18 अंक या 0.31%

कोटक की खास स्कीम: एक साल में पैसे हुए दोगुने, 1000 रुपये से करें शुरू…आगे भी पैसे डबल करने का मौका

Kotak Small Cap Fund ने एक साल 122%, 5 साल में 133 फीसदी और 16 साल में 1126 फीसदी का रिटर्न दिया है.

कोटक की खास स्कीम: एक साल में पैसे हुए दोगुने, 1000 रुपये से करें शुरू. आगे भी पैसे डबल करने का मौका

नए फाइनेंशियल ईयर में अगर आप म्यूचुअल फंड्स में पैसा लगाने की सोच रहे है तो आपके लिए Kotak Small Cap Fund एक अच्छा ऑप्शन हो सकता है. इस फंड ने एक साल में 122 फीसदी, 5 साल में 133 फीसदी और 16 साल में 1126 फीसदी का रिटर्न दिया है. इसका मतलब साफ है कि 10 हजार रुपये की रकम 16 साल में 1.22 लाख रुपये हो गई. एक्सपर्ट्स को अभी भी इस फंड में अच्छे रिटर्न की उम्मीद है. क्योंकि, आर्थिक रिकवरी हो रही है. ऐसे में छोटी कंपनियों के अच्छे प्रदर्शन करने की उम्मीद बढ़ गई है. लिहाजा आगे चलकर अच्छे रिटर्न हासिल किए जा सकते है.

अब Kotak Small Cap Fund के बारे में जानते है?

इस फंड का 95.5 फीसदी पैसा शेयर बाजार में लगता है. वहीं 4.5 फीसदी कैश में है. कोटक फंड के मैनेजर पंकज टिबरेवाल ने एक इंटरव्यु के दौरान बताया कि छोटी अवधि में शेयर बाजार में भारी उतार-चढ़ाव रह सकता है. इसका असर फंड पर भी दिखेगा. लेकिन लॉन्ग टर्म में बाजार से अच्छे रिटर्न की उम्मीद की जा सकती है. फंड्स से अच्छे रिटर्न के लिए पोर्टफोलियो को डाइवर्सीफाइड कर रहे है.

सबसे पहले जानते है स्मॉलकैप फंड के बारे में, ये होते क्या है

शेयर बाजार रेग्युलेटर सेबी के नियमों के मुताबिक, स्मॉलकैप म्यूचुअल फंड स्कीमों की कुल रकम का कम से कम 65 फीसदी बहुत छोटी कंपनियों में एक साल में शेयर बाजार में भारी उतार निवेश करना जरूरी है.

एक्सपर्ट्स बताते हैं कि शेयर बाजार में 250वें पायदान के नीचे आने वाली सभी कंपनियां इस कैटेगिरी में आती हैं. लार्जकैप सेगमेंट में टॉप 100 कंपनियां आती हैं. 101 से लेकर 250 तक की कंपनियां मिडकैप में आती हैं.

क्या स्मॉलकैप फंड में तेजी से पैसा बनता है?

स्मॉलकैप में छोटी कंपनियां शामिल होती हैं. इसीलिए इनमें जोरदार तेजी की उम्मीद बनी रहती है.स्मॉल कैप से ज्यादा रिटर्न की उम्मीद रहती है.

अन्य फंड के मुकाबले यहां ज्यादा रिटर्न की संभावना रहती है. लेकिन इनमें काफी ज्यादा जोखिम होता है. ज्यादा जोखिम है तो ज्यादा रिटर्न की भी उम्मीद रहती है. स्मॉल कैप में फंड मैनेजर 65%-90% तक का एक्सपोजर रखते है.

आमतौर पर कितना रिटर्न मिल जाता है?

अगर छोटे फंड के रिटर्न्स पर नज़र डालें तो 3 से 5 साल में ये 15% से 17% रिटर्न आसानी से दे देते है. इसका मतलब साफ है कि एफडी से कई गुना ज्यादा रिटर्न मिल जता है. छोटी अवधि में स्मॉल कैप में काफी ज्यादा उतार-चढ़ाव होता है. स्मॉल कैप फंड लंबी अवधि के लिए बेहतर माना जाता है.

क्या नए निवेशकों को इनमें पैसा लगाना चाहिए?

नए निवेशकों को स्मॉल कैप में निवेश की सलाह नहीं दी जाती है. स्मॉलकैप कैटेगरी में बहुत उतार-चढ़ाव आता है. इसीलिए इसमें फायदे के साथ-साथ रिस्क भी जाता होता है.

अगर निवेशक की जोखिम क्षमता ज्यादा है और 15 साल से ज्यादा का लक्ष्य है तो ऐसे में स्मॉल कैप में निवेश कर सकते हैं. स्मॉल कैप को सैटेलाइट पोर्टफोलियो का हिस्सा बनाना चाहिए.

रेटिंग: 4.36
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 512