एसेट एलोकेशन
एसेट क्लास 3 साल का रिटर्न रिस्क फैक्टर
स्टॉक 10-18% 15%
इक्विटी MF 12-14% 13%
PMS 14-30% 15-18%
डेट MF 5-7% 1.5%
FD 3-6% NIL
PPF 7% NIL
गोल्ड 8-12% 7-9%

Money Guru: किस एसेट क्लास में कितना निवेश सही? यहां समझें 12:20:80 स्ट्रैटेजी, मिलेगा बेहतर रिटर्न

Money Guru:अगर आपके पोर्टफोलियो में सही एसेट एलोकेशन होगा तो आपको रिटर्न भी ज्यादा मिलेगा. लेकिन क्या आप एसेट एलोकेशन स्ट्रैटेजी (Strategy of Asset Allocation) को समझते हैं?

हाई इनकम है तो डेट म्यूचुअल फंड में निवेश करें.

Money Guru: निवेश में एसेट एलोकेशन स्ट्रैटेजी बेहद मायने रखती है. अगर आपके पोर्टफोलियो में सही एसेट एलोकेशन होगा तो आपको रिटर्न भी किस एसेट क्लास में निवेश ज्यादा मिलेगा. लेकिन क्या आप एसेट एलोकेशन स्ट्रैटेजी (Strategy of Asset Allocation) को समझते हैं? क्या आपको पता है कि किस एसेट क्लास में कितना निवेश सही है? क्वांटम AMC के सीआईओ चिराग मेहता और आनंदराठी वेल्थ मैनेजमेंट के डिप्टी सीईओ फिरोज अजीज से जानते हैं कि आखिर एसेट एलोकेशन की 12:20:80 स्ट्रैटेजी क्या है और यह कैसे निवेश की रणनीति तय करता है.

निवेश में एसेट एलोकेशन का क्या है मतलब ?

निवेश में एसेट एलोकेशन का क्या है मतलब ?

एसेट एलोकेशन से फायदा होता है कि अगर एक इंस्ट्रूमेंट में उतार-चढ़ाव होता है तो दूसरे में फायदा होता है. उदाहरण के तौर पर अगर शेयर बाजार में गिरावट आई तो हो सकता है सोने में उतनी गिरावट न आकर तेजी ही आए.

हर निवेशक के हिसाब से एसेट एलोकेशन अलग-अलग होता है. उदाहरण के तौर पर एक एग्रेसिव इन्वेस्टर 75 फीसदी पैसा इक्विटी म्यूचुअल फंड्स, 20 फीसदी एफडी और 5 फीसदी सोने में निवेश कर सकता है.

indian-investment

Investment Tips : क्‍या होता है एसेट एलोकेटर फंड, बाजार के उतार-चढ़ाव से बचाकर कैसे तगड़ा रिटर्न देता है यह विकल्‍प

एसेट एलोकेशन फंड आपके निवेश को विभिन्‍न एसेट में बांटकर बेहतर रिटर्न देता है.

एसेट एलोकेशन फंड आपके निवेश को विभिन्‍न एसेट में बांटकर बेहतर रिटर्न देता है.

नई दिल्‍ली. शेयर बाजार में आ रहे उतार-चढ़ाव का असर म्‍युचुअल फंड के निवेश पर भी दिखने लगा है और इक्विटी एक्‍सपोजर में कमी आई है. इसका सबसे बड़ा कारण निवेशकों की जानकारी का अभाव है. उन्‍हें पता ही नहीं होता कि किस समय किस तरह के एसेट क्‍लास में निवेश करना चाहिए.

निवेशकों की इसी उलझन को दूर करता है एसेट एलोकेटर फंड. जैसा कि इसके नाम से ही पता चलता है कि यह आपके निवेश को विभिन्‍न एसेट क्‍लास में आवंटित करता है. ऐसे में इस फंड का चुनाव करने वालों को यह चिंता नहीं रहती है कि उन्‍हें कब किस एसेट में पैसे लगाने चाहिए और कब उससे बाहर निकलना चाहिए. ऐसी मुश्किलों का हल एसेट एलोकेटर फंड करता है. वैसे तो बाजार में किस एसेट क्लास में निवेश इस तरह के कई फंड हैं, लेकिन पिछले कुछ साल से आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल के इस फंड ने दमदार प्रदर्शन किया है.

निवेश में रिस्क फैक्टर को घटाना है? एक्सपर्ट से जानें किस एसेट क्लास में मिलेगा मुनाफा

Money Guru: नवरात्रि पर हम आपके लिए लेकर आए हैं निवेश के 9 मंत्र. इस कड़ी आज आपको जानने को मिलेगा अपने निवेश में रिस्क को कम करने के लिए एसेट एलोकेशन का गुर.

Money Guru: क्या आपको भी अपने इन्वेस्टमेंट में रिस्क फैक्टर को कम करना है या अनिश्चित बाजार में मुनाफा कमाना है? तो इसके लिए आपको समझना होगा किस एसेट क्लास में निवेश करने के आपको मौजूदा बाजार में फायदा मिल सकता है. नवरात्रि में निवेश के 9 मंत्र की इस सीरिज में आज आपको जानने को मिलेगा एसेट एलोकेशन का मंत्र. इसमें आपको जानने किस एसेट क्लास में निवेश को मिलेगा कि इस समय किन एसेट क्लास में निवेश से मिलेगा तगड़ा मुनाफा. इसके साथ ही पोर्टफोलियो में रिस्क और रिटर्न के लिहाज से किस एसेट क्लास में कितना एक्सोपजर रखें. फिनवाइज की फाउंडर प्रतिभा गिरीश और आनंदराठी वेल्थ मैनेजमेंट की हेड श्वेता रजानी आपको बताएंगी इसके बारे में सब कुछ.

Asset Class क्या हैं?

एक Asset class securities का एक संग्रह है, तुलनीय लक्षण किस एसेट क्लास में निवेश प्रकट करता है और समान बाजार में उतार-चढ़ाव से गुजरता है। इसी तरह की वैधता लगभग हमेशा एक परिसंपत्ति वर्ग में प्रतिभूतियों को बांधती है। विशेषज्ञों ने निवेशकों को अपने पोर्टफोलियो में तेजी से विविधता लाने में मदद करने के लिए विभिन्न परिसंपत्ति वर्गों में अलग-अलग निवेश उपकरण रखे हैं।

परिसंपत्ति वर्गों के अनुसार जोखिम कारक, कराधान, वापसी दर, तरलता, कार्यकाल और बाजार में उतार-चढ़ाव अलग-अलग होते हैं। इसलिए, निवेशक अक्सर न्यूनतम लागत के साथ अधिकतम रिटर्न अर्जित करने के लिए परिसंपत्ति श्रेणी के विविधीकरण पर भरोसा करते हैं।

एसेट क्लास क्या हैं? हिंदी में [What are Asset Class? In Hindi]

एसेट क्लास का प्रकार [Type of Asset Class ]

संपत्ति वर्गों को वर्गीकृत करने के लिए कई मानदंड हो सकते हैं। आप उन्हें उद्देश्य के आधार पर वर्गीकृत कर सकते हैं, जैसे कि यह तेल और प्राकृतिक गैस जैसी उपभोग संपत्ति है या यह स्टॉक और बॉन्ड जैसी निवेश संपत्ति है। आप उन्हें स्थान या बाजारों जैसे घरेलू प्रतिभूतियों, विदेशी या अंतर्राष्ट्रीय निवेश, या उभरते बाजारों और विकसित बाजारों के आधार पर भी वर्गीकृत कर सकते किस एसेट क्लास में निवेश हैं।

  • Real estate
  • Fixed-income Security
  • Equity
  • Marketable Commodity
  • Cash

एसेट क्लास उपयोगी क्यों हैं? [Why Are Asset Classes Useful?] [In Hindi]

वित्तीय सलाहकार निवेशकों को रिटर्न बढ़ाने के लिए अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाने में मदद करने के तरीके के रूप में परिसंपत्ति वर्ग पर ध्यान केंद्रित करते हैं। कई अलग-अलग परिसंपत्ति वर्गों में निवेश करना निवेश चयनों किस एसेट क्लास में निवेश में एक निश्चित मात्रा में विविधता सुनिश्चित करता है। प्रत्येक परिसंपत्ति वर्ग से अपेक्षा की जाती है कि वह अलग-अलग जोखिम को प्रतिबिंबित करे और निवेश की विशेषताओं को लौटाए और किसी भी बाजार के माहौल में अलग-अलग प्रदर्शन करे। Asset-Based Lending क्या है?

आपको वास्तव में यह जानने की ज़रूरत नहीं है कि कोई विशिष्ट निवेश किस परिसंपत्ति वर्ग में आता है। आपको बस बुनियादी अवधारणा को समझने की जरूरत है कि निवेश की व्यापक, सामान्य श्रेणियां हैं। विविधीकरण की अवधारणा के कारण यह तथ्य महत्वपूर्ण है। विविधीकरण आपके निवेश को विभिन्न परिसंपत्ति वर्गों में फैलाकर आपके समग्र जोखिम को कम करने का अभ्यास है।

रेटिंग: 4.84
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 223